ऐतिहासिक दस्तावेज है ‘कौम का कोहिनूर

0
208
 मंडलायुक्त, शहर मुफ़्ती, एसएसपी, अमुवि रजिस्ट्रार सहित साहित्यकार अरुण आदित्य करेंगे विमोचन
अलीगढ़। शाहजमाल स्थित शहर की नई ईदगाह का स्वर्णिम इतिहास अब नई पीढ़ी भी जानेगी। ईदगाह पर केंद्रित ‘कौम का कोहिनूर’ पुस्तक उनके लिए दस्तावेज का काम करेगी। शुक्रवार दोपहर 2 बजे ऊपरकोट के शम्स प्लाजा में शहर मुफ़्ती मोहम्मद खालिद हमीद की अध्यक्षता में मुख्य अतिथि मंडलायुक्त अजयदीप सिंह, विशिष्ट अतिथि साहित्यकार अरुण आदित्य, एसएसपी अजय साहनी, अमुवि रजिस्ट्रार अब्दुल हामिद संयुक्त रूप से पुस्तक का विमोचन करेंगे। पूर्व विधायक विवेक बंसल, जफर आलम, जमीरउल्लाह आदि भी विमोचन समारोह में शामिल होंगे। यह जानकारी पत्रकार वार्ता के दौरान कौम का कोहिनूर के लेखक इकराम वारिस दी।
मूल रूप से बलरामपुर निवासी पुस्तक के लेखक इकराम वारिस ने दावा किया है कि पुस्तक में बहुत कुछ ऐसा है जो आज तक छिपा हुआ था। ईदगाह के निर्माण में महिला द्वारा अपनी पाजेब दे देने से लेकर डीएम द्वारा बिजली लाइन हटवाने जैसे किस्से भी हैं। तमाम रोचक किस्से इस पुस्तक में दर्ज हैं। इकराम वारिस ने बताया इस ईदगाह के इतिहास में वो बात है जो अलीगढ़ की गंगा जमुनी तहजीब को भी मजबूत करती है। नई पीढ़ी को इसके बारे में बताना जरूरी था। प्रेस वार्ता में पुरातन छात्र समिति के अध्यक्ष प्रदीप के गुप्त व सामाजिक कार्यकर्ता विपिन चौधरी भी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here