ICICI बैंक की सीईओ चंदा कोचर पर धोखाधड़ी का केस दर्ज

0
237

कुरुक्षेत्र। पुलिस ने धोखाधड़ी के आरोप में आईसीआईसीआई बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर सहित सात अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। इन सभी के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। इनके खिलाफ एक स्थानीय उद्यमी धीरज गुप्ता ने न्यायालय में अर्जी दायर की थी। न्यायालय के आदेश पर पुलिस ने अब एफआइआर दर्ज कर ली है।

लाडवा रोड स्थित इंदौया फूड्स प्राइवेट लिमिटेड के एमडी धीरज गुप्ता ने बताया कि उन्होंने आईसीआईसीआई बैंक की पिपली शाखा से 4.40 करोड़ रुपये का कर्ज लिया था। कर्ज लेने का एग्रीमेंट तीन मई, 2016 को हुआ था। कंपनी ने कर्ज के एवज में पिपली पुलिस लाइंस के सामने बने सरकारी वेयर हाउसिग गोदामों में अलग-अलग तिथियों में सिक्योरिटी के रूप में देसी घी के टीन और सूखे दूध के बैग जमा कराए थे। इसकी एवज में बैंक हर बार सही लेन-देन के कारण कंपनी को अदायगी करता रहा था।

कुछ दिन तक तो सब ठीक चलता रहा, लेकिन 11 सितंबर, 2017 को आईसीआईसीआई बैंक पिपली के अधिकृत हस्ताक्षरी राहुल धवन ने कंपनी को 94, 38,506 रुपये की राशि का भुगतान 15 दिन में करने का नोटिस जारी किया।

नोटिस में कहा गया कि अगर समय पर राशि का भुगतान नहीं किया गया तो वेयर हाउस में रखे सामान से इसकी भरपाई की जाएगी। धीरज गुप्ता का आरोप है कि बैंक कर्मियों ने मिलीभगत कर कुरुक्षेत्र अदालत में नोटिस में दिए गए समय से पहले ही केस दायर करा दिया। एक याचिका उच्च न्यायालय में छूट से पहले दायर की गई, जिसमें गलत तथ्य दर्शाते हुए बताया गया कि कंपनी का खाता एनपीए हो चुका है।

धीरज गुप्ता का आरोप है कि वेयर हाउसिग के रिकॉर्ड के अनुसार उसका 1,78,80,000 रुपये का सामान वेयरहाउस में रखा था, जो आरोपितों ने इधर-उधर कर दिया। इस केस के बारे में पुलिस अधीक्षक सुरेंद्र पाल सिह से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि इस बारे में उन्हें जानकारी नहीं है। जांच के बाद आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here