त्रिपुरा सरकार ने कैजुअल ड्रेस पहनकर ड्यूटी करने पर लगाई रोक, अधिकारीयों को दिया आदेश….

0
341

त्रिपुरा सरकार की ओर से एक बड़ा फरमान जारी किया गया हैं जिसमें सरकारी अधिकारियों और बाबुओं के ड्रेस कोड पर जारी एक अधिसूचना जारी की गई हैं लेकिन इस फैसले से सियासत गर्म हो गई  है। विपक्ष ने इसे सामंती मानसिकता का परिचायक करार दे दिया है। दरअसल त्रिपुरा सरकार ने कर्मचारियों को ड्यूटी के दौरान डेनिम जैसी कैजुअल पोशाक नहीं पहनने की सलाह दी है।

बता दे की राजस्व, शिक्षा एवं सूचना व संस्कृति विभाग के प्रमुख सचिव सुशील कुमार की ओर से जारी दिशानिर्देश में अधिकारियों से राज्यस्तरीय बैठकों के दौरान ड्रेस कोड का पालन करने के लिए कहा गया है। इसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली बैठकों या दूसरी उच्चस्तरीय बैठकों में ड्रेस कोड का सम्मान किया जाना चाहिए है। जींस और ऐसी ही दूसरी पोशाक न पहने।

तथा दिशानिर्देश में यह भी कहा गया है कि कुछ अधिकारी बैठकों के दौरान मोबाइल पर संदेश पढ़ते और भेजते रहते हैं। यह असम्मान का सूचक है। इससे पहले पहले मुख्यमंत्री मानिक सरकार ने भी अधिकारियों को जेबों से हाथ बाहर रखने के लिए कहा था। लेकिन इस जारी फरमान पर त्रिपुरा प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष तापस दे ने नाराजगी जताते हुए कहा हैं कि यह आदेश राज्य की भाजपा आईपीएफटी सरकार की सामंती मानसिकता की मिसाल है। सरकार यह कैसे तय कर सकती है कौन क्या पहने और क्या नहीं? उन्होंने इसे सरकारी अधिकारियों के अधिकारों का अतिक्रमण करार दिया। वहीं माकपा प्रवक्ता गौतम दास नेभी अपने बयान में कहा कि यह लोकतांत्रिक देश है कोई औपनिवेशिक ब्रिटिश शासन नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here