पंजाब: एक ही दिन में 3 सुसाइड क्या हैं इस कहानी की वजह जाने…

0
186

पंजाब: हाल ही में पंजाब में एक ही दिन में तीन मौत होने के मामले सामने आए हैं। इन सभी ख़बरों से पूरा पंजाब का इलाका सदमें में हैं ।बताया जाता हैं की यहाँ एक किसान समेत छात्र और छात्रा ने आत्महत्या की है। पहला मामला तरनतारन के पट्टी के गांव शहीदका हैं जहाँ एक मजदूर ने अपनी बहन के ससुराल में जा कर वृक्ष से फंदा लगा कर खुदकशी कर ली। मृतक की पहचान जसबीर सिंह जस्सा निवासी गाव शहीद (पट्टी) के रूप में की गई है।

जसबीर की पत्नी अमनदीप कौर ने पूछ ताछ के दौरान बताया कि उसका पति गांव के ही एक किसान के पास 10 साल से मजदूरी कर रहा था। अक्सर किसान उसके पति को पैसों के लेन-देन को लेकर परेशान करता था, जिसके चलते जसबीर सिंह ने किसान के यहां काम करना बंद कर दिया। इसके बाद किसान रोजाना घर आकर जान से मारने की धमकिया देता और अपनी 1 लाख 20 हजार रुपए कर्ज के पैसे मांगता था।

धमकियों से तंग आकर जसबीर सिंह अपनी बहन किंदर कौर निवासी बरनाला के घर चला गया और गाव के खेतों में जाकर पेड़ से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इस बाबत थाना सदर पट्टी के इंचार्ज बलकार सिंह ने बताया कि मृतक की पत्नी के बयानों पर आवश्यक कार्रवाई की गई है। जाँच के बाद यदि कोई तथ्य सामने आए तो तुरंत कार्रवाई की जाएगी।

तभी एक अन्य मामले में लुधियाना के टिब्बा रोड की नेशनल कालोनी से भी खुद खुसी का मामला सामने आया हैं। यहाँ स्वतंत्रता दिवस की शाम को 12 साल के शिवम ने रस्सी के सहारे फंदा लगाकर अपनी जान दे दी। बताया जाता हैं की जिस वक्त बच्चे ने आत्महत्या की उस वक्त घर पर कोई नहीं था। घटना का पता उस समय चला जब शिवम का बड़ा भाई घर लौटा। उसने तुरंत इस बात की पूरी जानकारी अपने परिजनों को दी। सूचना मिलने के बाद थाना टिब्बा की पुलिस मौके पर पहुंची। परिजनों ने आशंका जाहिर करते हुए कहा है कि उनके बेटे की हत्या की गई है और उसके बाद शव रस्सी के सहारे टांग कर इसे आत्महत्या का रुप दिया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

शिवम के पिता राम कुमार ने बताया कि वह मूल रुप से उत्तरप्रदेश के जिला गौंडा के रहने वाले हैं। वह काफी समय से टिब्बा रोड की नेशनल कालोनी में ही रहते हैं और गाड़ी चलाते हैं। राम कुमार ने बताया कि उनका बेटा शिवम इलाके में ही स्थित स्कूल में पांचवीं कक्षा का छात्र था। स्वतंत्रता दिवस की छुट्टी थी तो वह घर पर ही था। उसका बड़ा बेटा संदीप बाहर खेल रहा था। बुधवार को वह अपनी पत्नी के साथ उसकी दवाई लेने के लिए चला गया। शिवम घर में अकेला था। उसने आत्महत्या की या किसी ने उसकी हत्या कर शव लटका दिया, उसे कुछ पता नहीं। एक घंटे बाद उसे उसके बेटे का फोन आया।

राम कुमार ने कहा कि शिवम किसी बात को लेकर परेशान भी नहीं था। छुट्टी वाले दिन भी वह मस्ती में था और बाहर खेल रहा था। उन्होंने कहा कि इतना छोटा बच्चा आत्महत्या नहीं कर सकता। उन्होंने आशंका जताई है कि किसी ने उसके बेटे की हत्या कर शव पंखे के सहारे रस्सी से लटका दिया। राम कुमार के अनुसार उसकी बाहर किसी से दुश्मनी थी, लेकिन वह अपनी जान की खातिर पुलिस को भी नहीं बता पा रहा है। उसके अनुसार अगर वह उनका नाम लेगा तो उसकी जान को भी खतरा हो सकता है। बाकी पोस्टमार्टम के बाद ही सब पता चल सकेगा।

अभी तक की जांच में यही सामने आया है कि शिवम ने आत्महत्या की है। उसके पिता ने अभी तक किसी पर कोई आरोप नहीं लगाए है। अगर शिवम के पिता कोई आरोप लगाते हैं तो जांच की जाएगी। बाकी पोस्टमार्टम के बाद सारा खुलासा हो जाएगा।हिमाचल की स्टूडेंट ने जालंधर में फंदा लगाकर जान दी

वहीं जालंधर के डिवीजन नंबर एक के इलाके फ्रेंडस कालोनी में रहने वाली एक छात्रा ने फंदा लगाकर खुदकुशी करने का मामला सामने आया हैं। मृतक छात्रा हिमाचल के जिला हमीरपुर के बडसर की रहने वाली है और फ्रेंड्स कॉलोनी में पीजी में रहती थी। सूचना मिलाने पर एसएचओ व पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस ने छात्रा के कमरे को काफी छान बीन की लेकिन कोई सुसाइड नोट नहीं मिला।

मृतका की पहचान शिखा शर्मा निवासी हमीरपुर हिमाचल हाल निवासी फ्रेंड्स कॉलोनी के रूप में हुई है। मृतका स्थानीय डीएवी कालेज में बीएससी नॉन मेडिकल में पढ़ रही थी। पीजी संचालिका सुनीता ने बताया कि शिखा पहले उनके सामने वाले पीजी में रहती थी। एक दिन शिखा ने आकर कहा कि उसकी पीजी मालिकन से थोड़ा झगड़ा हो गया है, वह उनके यहां शिफ्ट करना चाहती है। बतौर सुनीता शिखा उनके पास 10 अगस्त को आ गई थी। उस समय एक लड़का उसके साथ आया था, जिसे शिखा ने अपना अभिभावक बताकर परिचय कराया। गुरूवार को शिखा ने कमरा नहीं खोला तो उन्होंने देखा कि उसका शव पंखे से लटका है।

पुलिस डिवीजन नंबर एक के एसएचओ कुलवंत सिंह मौके पर पहुंचे और उन्होंने घटनास्थल का जायजा लिया। पुलिस को मौके से शिखा का आधार कार्ड मिला, जिस पर उसका हिमाचल का पता लिखा था। पुलिस ने तत्काल उसके पिता नरेश कुमार से संपर्क साधा तो वह परिवार समेत जालंधर पहुंचे। पिता नरेश ने बताया कि शिखा को पिछले दिनों टाइफाइड हुआ था, जिसके बाद वह ठीक नहीं थी।

बुधवार को फोन पर बात की थी तो कहा था कि वह अब कुछ ठीक है और नया रूम लेकर वह समान को ठीक से रख रही है। इसके बाद ज्यादा बात नहीं हुई। एसएचओ कुलवंत सिंह का कहना है कि पुलिस की जांच चल रही है। परिवार वालों ने किसी पर शंका जाहिर नहीं की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here