लाइव डिबेट में मौलाना को थप्पड़ लगाने वाली फराह फैज़ के खिलाफ FIR

0
186

नई दिल्ली। लाइव टीवी शो के दौरान महिला को थप्पड़ जड़ने वाले मौलाना को पुलिस टीवी स्टूडियो से गिरफ्तार करके ले गई। जी हिंदुस्तान के लाइव डिबेट कार्यक्रम के दौरान तीन तलाक मुद्दे पर बहस के दौरान मौलाना और तीन तलाक की मुख्य याचिकाकर्ता फराह फैज के बीच तनातनी इतनी बढ़ी कि मौलाना ने फराह फैज़ को थप्पड़ रसीद कर दिया है। दरअसल डिबेट के दौरान मौलवियों की ओर से जारी होने वाले फतवे के खिलाफ फराह फैज़ बोल रही थी इसी बात पर दोनों के बीच बहस हो गई।

बहस के दौरान दोनों के बीच मामला इतना आगे बढ़ गया कि मौलाना एजाज अरशद कासमी उग्र हो गए और उन्होंने महिला को थप्पड़ मार दिया। बीच बचाव करने के बाद भी जब मामला शांत नहीं हुआ था टीवी स्टूडियो में पहुंची पुलिस ने मौलाना को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं जिस तरह से लाइव टीवी शो के दौरान महिला को मौलाना ने थप्पड़ मार दिया उसे देखकर हर कोई चौंक गया। लेकिन हाल ही में अब खबर आई है कि एडवोकेट फराह फ़ैज़ के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज हो गई हैं।

आरोप है कि फराह फैज़ ने मौलाना पर पहले हमला करते हुए उन्हें थप्पड़ मारा। जिसके बाद प्रतिक्रिया में अपनी रक्षा करते हुए मुफ्ती एजाज अरशद कासमी ने भी फराह फैज़ को थप्पड़ लगा दिया। घटना के तुरंत बाद पुलिस ने कासमी को गिरफ्तार करके उन पर एफआईआर दर्ज कर ली थी। लेकिन अब पुलिस द्वारा फराह फैज़ के खिलाफ भी काउन्टर एफआईआर दर्ज किया गया है।

हालांकि जी हिंदुस्तान ने इस बात को छुपाने की कोशिश की कि मौलाना ने ही पहले महिला पर हमला किया था। वीडियो में बहसबाजी के दौरान हुए मारपीट को अगर गौर से देखा जाये तो यह स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि महिला ने पहले मौलाना को थप्पड़ जड़ दिया जिसके बाद मौलाना ने खुद का बचाव करते हुए महिला को थप्पड़ लगा दिया।

वहीँ दूसरी ओर इस घटना के बाद से ही सोशल मीडिया पर बहस शुरू हो गई है। कुछ लोग सवाल कर रहे है कि पहले हमला महिला द्वारा किया गया था, तो फिर मुफ्ती एजाज अरशद कासमी जिम्मेदार कैसे हुए? क्या एक औरत को किसी मर्द पर हाथ उठाने का हक है? तो वहीं कुछ लोगों का कहना है कि मुफ़्ती अरशद कासमी को न्यूज़ चैनल पर डिबेट के लिए जाना ही नही चाहिए था।

इसके अलावा ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड ने खुद को इस मसले से पूरी तरह अलग कर लिया है। उन्होंने ट्विट करके ऐलान किया कि मुफ्ती एजाज अरशद कासमी बोर्ड के प्रवक्ता नहीं है और ना ही बोर्ड की ओर से टीवी डिबेट पर जाते हैं वह अपने मामले के लिए खुद जिम्मेदार हैं।

आप को बता दें कि जी न्यूज के दफ्तर में तीन तलाक पर चल रही बहस में हिस्सा लेने के लिए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मुफ्ती एजाज अरशद कासमी, तीन तलाक की मुख्य याचिकाकर्ता फराज फैज, सामाजिक कार्यकर्ता अंबर जैदी भी यहां आई हुई थीं। इस दौरान जब बरेली के आला हजरत खानदान की बहू रह चुकी निदा खान ने आला हजरत दरगाह की ओर से जारी फतवे का विरोध किया तो मौलाना से उनकी बहस बड़ गई और यह हाथापाई तक पहुंच गई।

बहस के दौरान ही मौलाना और निदा खान के बीच नोंकझोंक होने लगी और दोनों खड़े होकर एक दूसरे पर चिल्लाने लगे, इसी दौरान मौलाना ने फराह के बाल पकड़कर उन्हें थप्पड़ मारना शुरू कर दिया। जिसके बाद स्टूडियो में बैठे एंकर और अन्य लोगों ने बीच बचाव किया। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मौलाना को हिरासत में ले लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here