योगिराज में गैंगरेप के बाद महिला को मंदिर में जिंदा जलाया

0
321

देशभर में महिलाओं के खिलाफ अत्याचार रुकने का नाम नहीं ले रहे. अब उत्तर प्रदेश के संभल इलाके से स्तब्ध कर देने वाली घटना सामने आई है. यहां एक 35 साल की महिला को उसके घर के पास ही स्थित मंदिर के हवनकुंड में जिंदा जला दिया गया. अब तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है. ऐसा बताया जा रहा है कि महिला के साथ गैंगरेप की कोशिश हुई, लेकिन रेप में असफल रहने पर उसे मंदिर की यज्ञशाला में जलाकर मार डाला गया.

पीड़िता के पति का कहना है कि जिंदा जलाए जाने से कुछ ही मिनट पहले महिला ने 100 नंबर पर डायल कर पुलिस से मदद मांगी थी. लेकिन पुलिस की तरफ से कोई जवाब नहीं मिला और न ही पुलिस मौके पर पहुंची. घटना शनिवार-रविवार की रात करीब 2.30 बजे घटी बताई जा रही है.

पुलिस ने बताया घटना शनिवार को तड़के राजपुरा पुलिस थाना क्षेत्र में पड़ने वाले एक गांव में घटी. पीड़िता का पति गाजियाबाद में मजदूरी कर परिवार का पेट पालता है और उनके दो बच्चे हैं. पीड़िता के परिवार वालों ने पांच लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई है.

पुलिस का कहना है कि शनिवार को तड़के महिला अपने घर में सोई हुई थी, जब बदमाश उसके घर में घुस आए. बदमाश सो रही पीड़िता को उठाकर पास में ही स्थित एक मंदिर में ले गए और उसके साथ हैवानियत करने की कोशिश की.

पुलिस जहां अभी महिला के साथ गैंगरेप की पुष्टि नहीं कर रही, वहीं पीड़िता के पति का आरोप है कि बीती रात पांच बदमाश उसके घर में जबरन घुस आए और उसकी पत्नी के साथ गैंगरेप किया गया. गैंगरेप के बाद महिला ने पुलिस से मदद मांगने की कोशिश की, लेकिन 100 नंबर पर उसे कोई जवाब नहीं मिला.

इसके बाद पीड़िता ने अपने चचेरे भाई को भी फोन कर अपनी आपबीती सुनाई. पीड़िता और उसके चचेरे भाई के बीच हुई बातचीत का ऑडियो क्लिप भी सामने आ गया है, जिसमें पीड़िता अपने साथ रेप की बात बता रही है.

हालांकि इस बीच पुलिस या पीड़िता का चचेरा भाई मदद के लिए कुछ कर पाता, बदमाश फिर से घर में दाखिल हुए और महिला को घसीटते हुए मंदिर में ले गए. बदमाशों ने सबूत नष्ट करने के मकसद से मंदिर में बने हवनकुंड में महिला को जिंदा जलाकर मार डाला.

राजपुरा पुलिस स्टेशन के एसएचओ अरुण कुमार ने बताया, ‘आईपीसी की धारा 376D (गैंगरेप), 302 (मर्डर), 201 (जुर्म के सबूतों को मिटाना), 147 (दंगों के लिए सजा) और 149 के तहत एफआईआर दर्ज की जा चुकी है. अभियुक्तों की पहचान आराम सिंह, महावीर, चरण सिंह, गुल्लू और कुमरपाल के रूप में हुई है। पांचो अभियुक्त भी उसी गांव से हैं, जिसमें महिला रहती थी और आरोप है कि वे बीते कुछ महीनों से महिला को परेशान कर रहे थे.’

अतिरिक्त महानिदेशक (पुलिस) प्रेम प्रकाश ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि उन्होंने घटनास्थल से कुछ महत्वपूर्ण सबूत जुटा लिए हैं. हमने महिला की अंतिम फोन कॉल को भी सुरक्षित रख लिया है, जिसमें उसने अपने चचेरे भाई से बात की है.’

एडीजी ने बताया, ‘इस फोन कॉल के दौरान महिला ने पांचों आरोपियों के नाम भी लिए हैं, जो जबरदस्ती उसके घर में दाखिल हुए थे और उन्होंने उसके बलात्कार किया था. यह सचमुच हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण सबूत है.एफआईआर दर्ज करने के बाद पुलिस ने दो टीमें बनाकर आरोपियों की धड़पकड़ शुरू कर दी है. जल्द ही पुलिस पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लेगी.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here