ज़िन्दगी की जंग हार गई 3 तलाक़ पीड़िता, पति ने एक महीने तक घर में कैद करके रखा भूखा प्यासा रखा था

0
338

बरेली. उत्तर प्रदेश के बरेली में अस्पताल में भर्ती तीन तलाक पीड़िता ने दम तोड़ दिया है। बता दें कि महिला को उसके पति ने पहले तीन तलाक दिया। इसके बाद उसे एक महीने तक घर में बंधक बनाकर रखा और खाने-पीने के लिए कुछ नहीं दिया। इसकी वजह से उसकी तबीयत बिगड़ गई थी। महिला के परिजनों ने उसे पति के छुड़ाकर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

-जानकारी के मुताबिक, किला के स्वालेंनगर में रहने वाली रजिया की शादी 13 साल पहले 2005 में पड़ोस के मोहल्ले कटघर के नईम से हुई थी।

-आरोप है कि नईम शादी के कुछ दिनों बाद से ही उसे दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगा। उसने जुल्म की इंतिहा कर डाली।

-आरोप है कि रजिया का पति उसे आए दिन मारना पीटना, भूखा रखना शुरू कर दिया, मगर फिर भी रजिया सब कुछ सहकर भी अपनी ससुराल में ही रही और डेढ़ महीने पहले रजिया के पति ने दिल्ली से उसे फोन पर तलाक, तलाक, तलाक कहकर पल भर में रिश्ता खत्म कर दिया।

-दिल्ली से लौटने के बाद जब उसने रजिया को अपने ही घर पर देखा तो वो आग बबूला हो गया कहा तलाक़ देने के बाद भी तुम अपने मायके नही गई। जिसके बाद रजिया को एक महीने तक भूखा प्यासा रखा गया। इतना ही नहीं नहीम ने रजिया को लोहे की रॉड से पीटा और फिर उसे अपने मामा के घर छिपा दिया। रजिया के घर वालों को किसी तरह पूरे मामले की जानकारी हुई तो उन्होंने उसे बंधन मुक्त कराया और जिला अस्पताल में भर्ती करवाया।

लेकिन रजिया तब तक हड्डियों का ढांचा बन चुकी थी। उसके शरीर पर मास तो रह नहीं गया था। वो बिल्कुल सूख गई थी। अस्पताल में जब उसे भर्ती किया गया तो उसकी हालत ऐसी थी कि वो बोल तक नहीं पा रही थी।

-रजिया का जिला अस्पताल में कई दिनों तक इलाज चला जब उसकी हालत ज्यादा खराब हो गई तो उसे लखनऊ रेफर किया गया लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। रजिया की मौत के बाद उसका 6 साल का बेटा है जो अनाथ हो गया। रजिया के बेटे को शायद ये भी नहीं पता होगा कि पापा की करतूतों के चलते आज उसकी मां इस दुनिया में नहीं रही।

-रजिया की बहन का कहना है कि वो इंसाफ चाहती है। उनका कहना है कि पुलिस ने उनकी कोई मदद नहीं की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here