क्या BJP ने खरीद्ली Flipkart, Flipkart हेल्प लाइन पर कॉल करने से मिल रही बीजेपी की सदस्यकता

0
374

देश में इस वक्त राजनैतिक गतिविधियां कुछ ज्यादा ही तेज हो गई है क्योंकि लोकसभा चुनाव आने वाले हैं। इन गतिविधियों में देश की ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियां भी शामिल होने लगी है। ऐसा ही एक वाक्या पश्चिम बंगाल के एक युवक के साथ हुआ। युवक ने फ्लिपकार्ट पर गलत प्रोडक्ट डिलिवर करने की शिकायत के लिए कॉल किया तो उन्हें बीजेपी की सदस्यता मिल गई। यह सुनकर आपको बड़ा अजीब लग रहा होगा लेकिन ऐसा ही हुआ है। दरअसल, पश्चिम बंगाल का यह युवक फीफा वर्ल्ड कप का शौकिन है। लिहाजा उसने फ्लिपकार्ट पर हेडफोन ऑर्डर किया ताकि वो रात में घर वालों को परेशान किए बिना फुटबॉल मैच देख सके।

फ्लिपकार्ट वालों ने हेडफोन की जगह तेल की बोतल भेज कर दी। जिसके बाद गुस्साएं युवक यानी ग्राहक ने फ्लिपकार्ट के पैकेट पर लिखे कस्टमर केयर के नंबर पर कॉल किया। कॉल पर रिंग गई और कॉल कट गया। दूसरी बार फोन लगाने ही जा रहा था कि एक मैसेज आया. जिसकी शुरुआत में लिखा था ‘वेलकम टू बीजेपी’ यानी बीजेपी में आपका स्वागत है। इसके आगे प्राइमेरी मेंबरशिप नंबर और बाकी की प्रक्रिया को पूरी करने के लिए दिशा निर्देश दिए गए थे।

फ्लिपकार्ट पर बीजेपी का नंबर

इसके बाद हैरान युवक ने दोबारा नंबर डायल किया लेकिन दोबारा वहीं मैसेज आया। अब युवक ने अपने दोस्तों को इस नंबर पर कॉल लगाने के लिए कहा लेकिन उनके पास भी यहीं मैसेज आया। थोड़ी देर की जांच पड़ताल के बाद उन सभी को एहसास हो गया कि 1800 266 1001 बीजेपी का नंबर है। इस नंबर पर फोन करने के बाद आप पार्टी की सदस्यता ले सकते हैं। हालांकि बंगाल भाजपा ने इस बात से पूरी तरह से इंकार किया है कि उसका फ्लिपकार्ट से कोई लेना-देना है। वहीं फ्लिपकार्ट ने दी सफाई उधर फ्लिपकार्ट ने इस मामले में अपना बयान देते हुए कहा कि, यह नंबर तीन साल पहले ही छोड़ दिया गया था।

हालांकि यह पैकिंग के लिए यूज होने वाले टैप पर प्रिंट था। उन टेप्स में से कुछ अभी भी इस्तेमाल होते हैं। फ्लिपकार्ट ने आगे कहा कि, “शायद ऑपरेटर ने इस नंबर को दोबारा अलॉट कर दिया होगा, क्योंकि अक्सर ऑपरेटर किसी नंबर के 6 महीने तक इस्तेमाल में ना होने पर वहीं नंबर किसी दूसरे को अटॉल कर देते हैं.” इसके अलावा फ्लिपकार्ट ने उस फुटबॉल प्रशंसक को फोन करके उन्हें गलत प्रोडेक्ट भेजे जाने पर मांफी मांगी और कहा कि वो तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं या चाहे तो फेंक दो। हेडफोन भेजा जा रहा है।

लेकिन ये रहस्य अभी भी सुलझ नहीं सका है कि कैसे फ्लिपकार्ट का नंबर भाजपा के पास और फिर वापस उसके पैकेज तक कैसे पहुंचा। हालांकि, ट्विटर पर कई लोगों ने पोस्ट करने के बाद ऐसा दावा किया है कि अन्य कई उपभोक्ताओं को भी फ्लिपकार्ट के कस्टमर केयर पर कॉल करने के बाद ऐसी ही मुश्किल का सामना करना पड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here