नीतीश का BJP पर हमला, कह डाली ये बड़ी बात

0
307

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिना नाम लिए अपनी सहयोगी पार्टी बीजेपी पर निशाना साधा है. नीतीश कुमार ने कहा है कि वोट पाने के लिए जाति और धर्म की तर्ज पर वोटरों को विभाजित करने के लिए समाज में संघर्ष का माहौल बनाया जा रहा है. नीतीश ने ये बयान पूर्व प्रधानमंत्री वी पी सिंह की 87वीं जयंती के मौके पर दिया है. उन्होंने कहा कि देश में वोट के किए जातीय और संप्रदायिक तनाव का माहौल बनाया जा रहा हैं.

उन्होंने कहा कि उनका विश्वास है कि काम के आधार पर वोट मांगना चाहिए, इसलिए वो वोट की चिंता नहीं वोटर को चिंता करते हैं. वहीँ सूत्रों की माने तो बिहार में जदयू और बीजेपी के बीच चल रहे टकराव में नीतीश के बयान ने आग में घी डालने जैसे काम किया है. सूत्रों के मुताबिक नीतीश कुमार को यह भनक लग चुकी है कि 2019 के चुनाव से ठीक पहले बीजेपी नीतीश सरकार से समर्थन वापस लेकर बिहार में राज्यपाल शासन लागू करवाना चाहती है.

सूत्रों ने कहा कि बीजेपी के षड्यंत्र की भनक लगने के बाद जेदयू अब और चौकन्नी हो गयी है और बिहार में जदयू – बीजेपी रिश्ते कभी भी अलग होने के कगार पर खड़े हो सकते हैं.

सूत्रों की माने तो 2019 के आम चुनावो के लिए जनता दल यूनाइटेड द्वारा बिहार में 25 सीटों पर दावा ठोंके जाने के बाद बीजेपी आलाकमान नीतीश सरकार को समर्थन जारी रखने के मुद्दे पर गंभीरता से विचार कर रहा है.

सूत्रों के अनुसार पिछले कुछ महीनो में जनता दल यूनाइटेड ने जिस तरह बीजेपी पर दबाव बनाने की कोशिश की है उससे पार्टी अध्यक्ष अमित शाह नाराज़ बताये जाते हैं. सूत्रों ने कहा कि नीतीश की टोका टाकी के कारण बिहार की सत्ता में रहने के बावजूद बीजेपी अपना एजेंडा पूरी तरह से लागू नहीं कर पा रही.

सूत्रों ने कहा कि नीतीश के दबाव के कारण बीजेपी को बिहार में अपना कट्टर हिंदुत्व वाला ठन्डे बस्ते में रखना पड़ा है. यही कारण है कि बीजेपी चाहती है कि बिहार में भी अब नीतीश से अपना दामन छुड़ा लेना बेहतर होगा.

नीतीश कुमार ने कहा है, ‘’मैंने जे पी नारायण और वी पी सिंह के साथ काम किया है. मैंने उनसे कड़ी मेहनत करनी सीखी है.’’ उन्होंने कहा, ‘’मुझे परवाह नहीं है कि मुझे कौन वोट देगा और कौन नहीं. लेकिन वोटरों को विभाजित करने के लिए समाज में संघर्ष का माहौल बनाया जा रहा है.’’

सोशल मीडिया पर गलत शब्दों के प्रयोग पर नीतीश ने कहा, ‘’सोशल मीडिया के जरिए समाज में प्रेम सद्भावना और सकरात्मक सोच की जगह एक टकराव और तनाव का माहौल को बढ़ाया जा रहा है.’’ इस कार्यक्रम में नीतीश कुमार के साथ लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान भी मौजूद थे.

इस कार्यक्रम में रामविलास पासवान ने कहा कि बीजेपी नेतृत्व वाले एनडीए के सभी घटक दल अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिहार में सीट साझा को लेकर जल्द निर्णय चाहते हैं. केंद्रीय मंत्री ने उम्मीद जतायी कि एनडीए के सभी घटक दलों के बीच सीट साझा का मुद्दा जल्द ही सुलझ जाएगा.

पासवान ने कहा कि सभी पार्टियों को लोकसभा चुनाव के लिए उससे पूर्व अपने कार्यकर्ताओं को संगठित करने की आवश्यकता होती है. यही कारण है कि सीट साझा के मुद्दे पर जल्द निर्णय आवश्यक है. मुझे विश्वास है कि मुद्दे को हल हो जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here